ये Motivational story in हिंदी बदल देगी आपकी ज़िन्दगी!! By RAHUL RANJAN

कड़ी मेहनत के बाद भी हमें सफलता क्यों नहीं मिलती???? Motivational Story!!

Motivational story in हिंदी for success  By RAHUL RANJAN

हेलो दोस्तों RAHUL RANJAN BLOG मे आप सभी का स्वागत है।

दोस्तों हम मे से ज्यादा तर लोगो  के साथ ये परेशानी आयी ही होंगी की लोगो को ज्यादा मेहनत करने के बावजूद भी सफलता नहीं मिलती जबकि किसी को कम मेहनत मे ही सफलता मिल जाती है। ऐसा क्यों होता है ये मैं आपको एक छोटी सी story के माध्यम से बताना चाहता हूं। तो चलिए सुरु करते है।
ये कहानी एक लकड़हारे की है जिसका नाम जॉन था, वो पिछले पांच साल से एक कंपनी मे काम करता था लेकिन फिर भी उसे सफलता नहीं मिली थी।

उसी कम्पनी मे बिल नाम के एक और  लकड़हारे को काम पे रखा जाता है  और बिल को 2 साल मे ही सफलता मिल जाती है उसके वेतन मे काफी बढ़ोतरी होती है। ये सब देख के जॉन को काफी बुरा लगता है वो सोचता है मैं पिछले 5 साल से काम कर  रहा हु फिर भी मेरी वेतन मे बढ़ोतरी नहीं हुई और बिल को 2 साल मे ही सफलता मिल गया इस बात से वो काफी परेशान होकर अपने बॉस के पास बात करने गया।

वो अपने बॉस को बोला मे पिछले 5 साल से काम कर रहा हु पर मेरे वेतन मे बढ़ोतरी नहीं हुई और बिल को 2 महीनों मे ही बढ़ा दिया गया ऐसा क्यों। उसके बॉस ने जवाब दिया तुम आज भी उतने ही पेड़ काटते हो जितना तुम 5 साल पहले काटते थे और इस कंपनी मे नतीजे को देखा जाता है अगर तुम ज्यादा पेड़ काटने लगे तो हमें तुम्हारे वेतन बढ़ाते हुए खुशी होंगी।

उसके बाद जॉन वापस आता है और अधिक समय तक मेहनत करने लगता है। फिर भी वो बिल से ज्यादा पेड़ नहीं काट पता है। वो उदास होकर बॉस के पास जाता है और ये सब बात बताता है। उसके बॉस जवाब देते है मुझे ये सब चीजों के बारे मे ज्यादा जानकारी नहीं है तुम एक काम करो तुम बिल से जाके सुझाव लो वो इस चीज के बारे मे ज्यादा अच्छे तरीके से बता पायेगा। फिर वो ज्यादा देर ना करते हुए बिल के पास जाता है और बोलता हे, मैं अधिक  मेहनत से और अधिक देर तक काम करता हु फिर भी मैं ज्यादा पेड़ नहीं काट पता हु क्यों?  


फिर बिल जवाब देता है मे हर पेड़ काटने के बाद 2 मिनट के लिए काम रोक देता हु और अपने कुल्हाड़ी के धार को तेज़ करता हु। तुमने अपने कुल्हाड़ी के धार को आखिरी बार कब तेज़ किया था। ऐसा ही हमारे जीवन मे भी लागु होता है दोस्तों पिछली शिछा और गौरव का ज्यादा महत्व नहीं होता हमें हमारे कुल्हाड़ी के धार को बारबार धार करनी होंगी वरना हम कितना भी मेहनत कर ले कभी भी सफल नहीं हो पाएंगे, हमें हमारे दिमाग़ को सही खुराक देनी होंगी, जैसे हर रोज हमें अच्छे खाने की जरुरत होती है वैसे ही हमारे दिमाग़ को अच्छे विचारों की जरूरत होती हाई, वरना हमार शरीर और दिमाग़ दोनों ही बीमार पड़ जायेगा।

इसे भी पढ़े : Bhut sarif ladka




इसे भी पढ़े : https://youtu.be/Ih_WJP0h0Z8





Motivational : 12 साल के बच्चे को सॉफ्टवेयर कंपनी में डाटा साइंटिस्ट की नौकरी मिली, श्रेय पिता को दिया


Read Article

Motivational : Success


Read Article

Motivational : कॉफिंडेस


Read Article

Motivational : माता - पिता और जिन्दगी


Read Article

Motivational : मेरी मंजिल और मेरे रास्ते


Read Article

Goal24.in is a product of RSG Trade & Services (OPC) Pvt. Ltd.

Success motivational stories, motivational business success stories ,real life inspirational stories,true story,moral stories

© Goal24.in, 2020 | All Rights Reserved | Privacy Policy | About Us | Contact Us