How To Set Goal In hindi Part 1!! लक्ष्य के बारे मे पूरी जानकारी !!

How To Set Goal In hindi Part 2!! लक्ष्य  के बारे मे पूरी जानकारी !! By RAHUL RANJAN!!



हेलो दोस्तों आपलोगो को फिर से एक बार  RAHUL RANJAN BLOG मे स्वागत है। और आज मे आपको Goal सेट कैसे करे Part 2 (How to set Goal Part 2 ) के बारे मे बताऊंगा।




जैसा की आप सब को पता है आज के date मे हर एक इंसान Successful बनना चाहता है लेकिन बहोत कम लोग ही अपने लाइफ मे success हो पाते है। इसका एक सिंपल सा मतलब ये है की जो लोग अपने Goal को set करके इसके पीछे मेहनत करते है वही लोग अपने जीवन मे Guccess हो पाते है। बोहोत सारे लोग किसी काम को सुरु तो बोहोत जोस मे करते है लेकिन वे लोग अंत तक नहीं करते पाते। क्योंकि उनका Goal clear ही नहीं होता है उन्हें पता ही नहीं होता है की उसे जाना कहा है। किसी भी field मे success होने के लिए हमें अपने goal अपने टारगेट को focus करना होगा।

चलिए मे आपको एक story के through समझाता हुँ।


Keep Your Eyes Upon The Goal



एक बार की बात है प्राचीन भारत मे एक ऋषि अपने शिष्यों को तीरंदाजी सीखा रहे थे। उन्होंने टारगेट मे एक लकड़ी के चिड़िये को रखा। और अपने शिष्यों से उस चिड़िये की आँख पर निशाना लगाने को कहा। उन्होंने पहले शिष्य को बुलाया और पूछा, " तुम्हे क्या दिख रहा है? " शिष्य ने कहा, मैं पेड़, टहनिया (branches), पत्ते, आसमान चिड़िया और उसकी आँख देख पा रहा हु।

ऋषि ने उसे इंतजार करने को कहा। तब उन्होंने दूसरे शिष्या को बुलाया और वही सवाल किया तो दूसरे शिष्य ने जवाब दिया, "मुझे सिर्फ चिड़िया की आंख दिखाई दे रही है। तब ऋषि ने कहा, " बहुत अच्छा, अब तुम तीर चलाओ। फिर तीर सीधा जाके चिड़िये की आँख मे जा कर लगा।
इससे ये पता चलता है की अगर हम अपने मकसद पर ध्यान नहीं लगाएंगे तो हम अपने लक्ष्य तक नहीं पहुँच पाएंगे। हमें अपने मकसद पर ध्यान लगाना एक मुश्किल काम है, मगर ये एक art है अगर हम चाहे तो इसे सिख सकते है।

लक्ष्य क्यों जरुरी है। (why are Goals Important)

तेज धुप और शक्तिशाली magnifying Glass के बावजूद कागज को आग तब तक नहीं लग सकती, जब तक आप glass को हिलाते रहेंगे। अगर आप उसे थोड़ी देर बिना हिलाये sun light को Focus करेंगे, तो कागज मे आग पकड़ लेगा।

सपने (Dreams)

लोग अक्सर इच्छा (desire) और सपने (Dream) को लक्ष्य (Goal) समझने की गलती कर देते है। मे आपको बताना चाहूंगा इच्छा और सपने सिर्फ चाहत होती है और चाहत कमजोर होती है चाहतों मे मजबूती तब आती है जब हम इन बातो का ध्यान देते है :--



1) दिशा (Direction)

2) समर्पण (Dedication)
3) दृढ़ निशचय (Determination)
4) अनुशासन (Discipline)
5) समय सीमा (Deadlines)



यही कुछ बाते है जो इच्छा और लक्ष्य मे अंतर लाती है। लक्ष्य (Goal) वे सपने है इनके साथ समय-सीमा और कार्य जुड़ी होती है। सपने को असलियत का रूप चाहत नबी बल्कि लगन दिलाती है।



सपने को चाहत मे बदलने वाले कदम। (turn your Dream into Reality)




1) निशचित और साफ लक्ष्य लिखें।

2)  इसे हासिल करने का प्लान बनाइये !
3) point 1और 2 को रोज दो बार पढ़े।



इन steps को अगर आप follow करते हो तो आपके कुछ समय मे ही काफी अच्छा फर्क समझ मे आ जायेगा।


ज्यादातर लोग अपने लक्ष्य (goal) क्यों नहीं बनाते है? )(Why Don't More People Set Goal? )




कुछ करने की कोशिश करके fail हो जाने वाले लोग उन लोगो से लाख गुना अच्छा हैँ जो कुछ किये बिना सफल हो जाते है। - लॉयड जोंस


लोगो को लक्ष्य तय नहीं करने के बोहोत सारे वजह है। जैसे की----

1. निराशावादी नज़रिया (pessimistic attitude ) :-
संभावनाओं (Possibilities.) की बजाये हमेसा रास्ते के बाधाओं को देखना।



2. Fail होने का डर ( Fear of Failure) :-

लोग हमेसा ये सोचते है की अगर मे नहीं कर सका तो क्या होगा। लोग क्या सोचेंगे। ज्यादातर लोग अपने Subconscious mind मे यह विचार रहता है की अगर वे goal तय नहीं करेंगे, तो failure भी नहीं मिलेगी। लेकिन इन लोगो को ये नहीं पता की Goal का ना होना भी असफलता ही है।



3. सफलता का डर (Fear Of Success) :-

खुद को कम करके आँकना, बहुत सारे लोग सफल जिंदगी को लेकर बोहोत ज्यादा डर पैदा कर लेते है।



4. Desire की कमी (Lack of Ambition) :- 

हम अपने इच्छाओ को सोच ही नहीं पाते है। हमारा बंद दिमाग़ हमें आगे बढ़ने से रोकती है।
एक मछुआरा था जो जब भी कोई बड़ी मछली पकड़ता तो उसे वापिस नदी मे फेंक देता था, और सिर्फ छोटी मछलीयों को अपने पास रहने देता था। उसकी इस अजीब हरकत को देखकर एक आदमी ने उससे पूछा की वह ऐसा क्यों कर रहा है? तब मछुआरे ने जवाब दिया, " मेरी कड़ाही बहुत छोटी है इसलिए। " बहुत सारे लोग जीवन मे success sliye नहीं होते क्योंकि उनके पास मछुआरे की ही तरह छोटी कड़ाही होती है।



5. अस्वीकार किए जाने का डर, ( Fear Of Rejection) :-

इस बात का डर की अगर मे success नहीं हुआ तो लोग क्या कहेँगे।?



6. टालमटोल (Procrastination) :-

कभी ना कभी तो मैं अपना लक्ष्य तय करूँगा। इस सोच मे Ambition की कमी होती है।



7. घटिया दर्जे का आत्मसम्मान (Low Self-Esteem):-

लोग अपने अंदर के Inspiration से काम नहीं करते पाते और उसके जीवन मे प्रेरणा की कमी होती है।



8. लक्ष्य का महत्व ना समझना (Ignorance Of The Impotance Of Goal):-

किसी ने उन्हें इसके बारे मे सिखाया ही नहीं, और उन लोगो ने कभी अपने Goal के महत्व को समझा ही नहीं।



9. GOAL तय करने का तरीका ना जानना (Lake Of About Goal Setting) :-

बहुत सारे लोग Goal set करने के तरीके को नहीं जानते है। उन्हें हर कदम के लिए एक Guide की जरुरत होती ह, ताकि वह बंधे बँधाये रास्ते पर चल सके।
अगर आप लोगो से जिंदगी का कोई बड़ा मकसद बताने को कहे तो वे सायद आपको unclear जवाब देंगे, जैसे की, " मैं सफल होना चाहता हुँ ख़ुश रहना चाहता हुँ, एक अच्छी जन्दगी जीना चाहता हुँ", और यही पर रुक जायेंगे। ये सभी कोरे सपने है, इनमे से कोई भी लक्ष्य साफ नहीं है।

Goal Must Be S.M.A.R.T




1. S-Specific (स्पस्ट ) :- 

मिसाल के तौर पर, " मैं वजन घाटना चाहता हुँ", ये सिर्फ एक इच्छा है। यह लक्ष्य तब बनता है, जब हम यह तय कर है की, " मैं 60 दिनों मे 8 pound वजन घटाउँगा। "



2. M- Measurable (मापा जा सके ) :- 

हासिल करने ke काबिल होने से मतलब है की चुनौती भरा और मुश्किल भरा और मुश्किल तो हो, लेकिन नामुमकिन न हो, क्योंकि imposible Goal हमें निराश ही करेगा।



3. A-Achievable(हासिल करने के काबिल ) - 

काम के शरू और अंत की एक समय सीमा होनी चाहिए।



4. R-Realistic (वास्तविक ) :- 

एक इंसान को यदि 30 दिन मे 50 pound वजन घटाना चाहे, तो



5. T-Time bound (समय सीमा ):- 

काम से zhuru और अंत की एक निशचित समय सीमा होनी चाहिए।

Goal की कई तरह की समय - सीमा हो सकती है।




1. Short-Term - 1 साल

2. Mid-Term - 3 साल
3. Long-Term - 5 साल



Goal 5 साल से भी ज्यादा समय के हो सकते है, लेकिन तब वो ज़िन्दगी का उद्देश्य बन जाते है। जीवन का  उद्देश्य होना बहुत जरुरी होता है, क्योंकि इसके बिना हमारा देखने का नज़रिया तंग हो जाता है, और फिर हम जीवन मे लक्ष्यों को हासिल करने तक ही सिमित रह जाते है और उद्देश्य को भूल जाते है। लक्ष्यों को छोटे-छोटे हिस्सों मे बाँट दिया जाये, तो उन्हें हासिल करना आसान हो जाता है।


Motivational Quotes:-

1. जो दुनिया को हिलाना चाहता है , सबसे पहले उसे  खुद  हिलना चाहिए- सुकरात 



2. अमर होने से उस व्यक्ति को क्या लाभ, जो अपने आधे घंटे का इस्तेमाल भी अच्छी तरह नहीं कर सकता ?


3. जिंदगी दस गियर वाली motorcycle की तरह है !हम्मे से ज्यादातर लोगो के पास ऐसे गियर्स होते है , जिनका हम कभी इस्तेमाल ही नहीं करते !

4. बोले या लिखे गए सबसे दुखद शब्द है ," मैं यह काम कर सकता था!


5. घ्यादि को मना देखते रहे; वही करे जो यह करती है ! चलते रहे !

तो उम्मीद है दोस्तों आपलोगो को goal सेट कैसे करे Part 2, how to set goal part 2?? पसंद आयी होंगी। दोस्तों इस आर्टिकल को लिखने मे हमारा काफ़ी समय लगा है। तो उम्मीद है दोस्तों आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों को शेयर करके हमारा सहयोग जरूर करेंगे !!! धन्यवाद 


इसे भी पढ़े : समाज की विडम्बना



Motivational : 12 साल के बच्चे को सॉफ्टवेयर कंपनी में डाटा साइंटिस्ट की नौकरी मिली, श्रेय पिता को दिया


Read Article

Motivational : Success


Read Article

Motivational : कॉफिंडेस


Read Article

Motivational : माता - पिता और जिन्दगी


Read Article

Motivational : मेरी मंजिल और मेरे रास्ते


Read Article

Goal24.in is a product of RSG Trade & Services (OPC) Pvt. Ltd.

Success motivational stories, motivational business success stories ,real life inspirational stories,true story,moral stories

© Goal24.in, 2020 | All Rights Reserved | Privacy Policy | About Us | Contact Us