महाबालीपुरम का तट मंदिर

महाबालीपुरम के तट मंदिर

तटीय मंदिर को दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन में से जाना जाता है।  ये  बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित होने के कारण इस मंदिर का नाम तटीय मंदिर पर है। इस मंदिर का निर्माण काल आठवीं शताब्दी यानी 700ई०-728 ई० तक है। यह मंदिर द्रविड वास्तुकला द्वारा निर्मित है।
 
यह मंदिर तमिलनाडु के महाबालीपुरम या जिला कांचीपुरम में
स्थित है। 

इस मंदिर का निर्माण पल्लव राजवंश के राजा नरसिंहवर्मन प्रथम ने कराया था। 
इस मंदिर के परिसर में तीन मंदिर है। एक तो बीच में भगवान् विष्णु का मंदिर है और दोनों तरफ भगवान् शिव का मंदिर है। 


तस्वीर में आप देख सकते हैं की जब समुद्र की लहरें मंदिर से टकराती हैं तो तो एक प्रकार का अनोखा और रहस्मयी दृश्य उत्पन्न करती है जैसे मानो ये लहरें कुछ कहना चाहती हो। 

इसे भी पढ़े : A story that change your thinking



इसे भी पढ़े : Very Important Articles



Education : Digital Marketing


Read Article

Education : Important of fitkari


Read Article

Education : Study in Agriculture knowledge and more informataion of agriculture side


Read Article

Education : Soundpollution


Read Article

Education : Soil pollution in india


Read Article

Goal24.in is a product of RSG Trade & Services (OPC) Pvt. Ltd.

Success motivational stories, motivational business success stories ,real life inspirational stories,true story,moral stories

© Goal24.in, 2020 | All Rights Reserved | Privacy Policy | About Us | Contact Us